अलीराजपुर के इन वनवासियों के हौसले को सलाम, बना डाला पहाड़ काटकर मिलो लंबा रोड

अलीराजपुर में आदिवासियों में अपने भागीरथ प्रयास से असम्भव को संभव कर दिखाया है यहाँ अंजनवाड़ा गाँव के लोगो के जज्बे को सलाम करती हुई इस रिपोर्ट को देखिए कि कैसे लोगो ने होसलो की उड़ान भरते हुए बिना सरकारी मदद के 7 किमी सड़क का निर्माण कर डाला ।


अलीराजपुर जिले के सबसे ऊंचे इलाके में  पहाड़ के ऊपर बसे गाँव  अंजनवाड़ा  के लोगो ने अपने भगीरथ प्रयास से एक मिसाल खड़ी कर दी है गाँव के लोगो ने सामूहिक प्रयासों से पहाड़ का सीना चिर कर 7 किमी का रोड बना डाला ।


ग्राम पंचायत सकरजा के अंतर्गत आने वाले  लगभग 350 लोगो की आबादी वाले इस गाँव के रहवासियों की जिंदगी आसान नही है यह गाँव अलीराजपुर जिले के सबसे दुर्गम इलाको में से एक है आज से पहले  इस गाँव तक पहुचने के लिए नर्मदा नदी एकमात्र जरिया थी ।बोट के जरिये ककराना गाँव से 3 घंटे ओर सकरजा गाँव से 2 घंटे से ज्यादा समय लगता था परंतु इस गाँव के लोगो की मेहनत और हिम्मत ने अब जिंदगी थोड़ी आसान कर दी है लोगो ने गेती ओर फावड़े से 7 किमी लंबा और 3 मीटर चौड़ा रोड बना डाला जिसके चलते अब गाँव के अंतिम छोर तक चार पहिया वाहन पहुचने लगा है ।


गाँव के बुजुर्गो की माने तो रोड ओर पानी की सुविधा के लिये लोगो ने प्रशासन से कई बार गुहार लगाई परन्तु उनकी सुनवाई नही हुई ,बुजुर्गो का कहना है कि गाँव की दुर्गम बसाहट ,रोड ओर पीने के पानी के अभाव के कारण लोग इस गाँव मे अपनी बेटियां ब्याहना नही चाहते यही कारण है कि गाँव में कई युवकों की शादियां नही हुई है


दुर्गम बसाहट के कारण गाँव मे सासन की योजनाये पहुच नही पाती है  शिक्षा और स्वास्थ्य जैसी मूलभूत सुविधाएं भी इस गांव में नही है  गाँव के बच्चों के लिये सासन ने 5 किमी दूर एक स्कूल तो खोल दिया है परंतु वहा भी स्कूल भवन बनाया जाना संभव नही हो सका है और स्कूल एक झोपड़े में अतिथि शिक्षक के भरोसे संचालित हो रहा है इस गाँव को सकरजा से जोड़ने वाली यह रोड बनकर लगभग तैयार है कुछ हिस्सों में ग्रामीण आज में सामूहिक रूप से रोड निर्माण में लगे और अब उन्हें उम्मीद है कि शासन उनके गांव में पीने के पानी की व्यवस्था कर दे बस ।