आपातकाल काला दिवस मनाया गया, लोकतंत्र सेनानियों का हुआ सम्मान- यशवंत जैन


झाबुआ:- 25 जून 1975 से 21 मार्च 1977 तक का 21 महीने की अवधि में भारत में आपातकाल घोषित था तत्कालीन राष्ट्रपति फख़़रुद्दीन अली अहमद ने तत्कालीन भारतीय प्रधानमंत्री इन्दिरा गांधी के कहने पर भारतीय संविधान की धारा 352 के अधीन आपातकाल की घोषणा कर दी। स्वतंत्र भारत के इतिहास में यह सबसे विवादास्पद और अलोकतांत्रिक काल था। आपातकाल में चुनाव स्थगित हो गए तथा नागरिक अधिकारों को समाप्त करके मनमानी की गई। इंदिरा गांधी के राजनीतिक विरोधियों को कैद कर लिया गया और प्रेस पर प्रतिबंधित कर दिया गया। कांग्रेस ने लोकतंत्र की हत्या की और हमारे वरिष्ठ मीसा बंदियों ने कांग्रेस के अत्याचार सहन किये। जिला भाजपा मीडिया प्रभारी योगेन्द्र नाहर ने बताया कि 25 जून शुक्रवार को आपातकाल काला दिवस के साथ ही भाजपा द्वारा दोपहर 12 बजे लोकतंत्र सेनानियों सर्व श्री विमल जी काठी योगेन्द्र जी भावसार वह कनक मल जी कट कानी का उनके निवास स्थान पर पहुँच कर भाजपा जिला अध्यक्ष लक्ष्मण सिंह नायक व मंडल अध्यक्ष अंकुर पाठक एवं भाजपा भाजपा कार्यकर्ताओं द्वारा कार्यक्रम के प्रभारी दौलत भावसार के मार्गदर्शन में पुष्पमाला साल एवं श्रीफल से सम्मान कर उनका आशीर्वाद लिया एवं उनके दीर्घायु होने की मंगल कामना की गई

इस अवसर पर भाजपा जिला मिडिया प्रभारी योगेन्द्र नाहर युवा पार्षद जुवान सिंह गुण्डिया महामंत्री पपीश पानेरी पार्षद अजय सोनी ओम भदोरिया राजा ठाकुर अमीत शर्मा किशोर भाबोर संजय कटकानी अम्बरीष भावसार राज थापा आदि कार्यकर्ता एवं पदाधिकारी उपस्थित थे जिन्होंने आपातकाल के दौरान 18 माह जेल में रह कर प्रताडऩा सही थी।